तीन तलाक बिल: इस दिन विपक्ष के ये 20 सांसद सदन से गायब रहे, जानना नहीं चाहेंगे क्यों?

नई दिल्लीः विपक्ष के कड़े विरोध के बावजूद केंद्र सरकार ने मंगलवार को तीन तलाक विधेयक राज्यसभा से पारित करा लिया। लोकसभा में पहले ही यह बिल पारित हो चुका है अब राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद यह कानून बन जाएगा। इसके बाद एक साथ तीन तलाक देना कानूनन अपराध होगा। तीन तलाक विधेयक पर राज्यसभा में वोटिंग के दौरान कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के पांच-पांच सांसदों सहित विपक्ष के करीब 20 सांसद नदारत रहे। यह जानकारी सूत्रों ने दी।

कांग्रेस के राज्यसभा सदस्यों को अब पार्टी को कारण बताना पड़ेगा क्योंकि विधेयक पर वोटिंग के दौरान सभी सांसदों की सदन में मौजूदगी सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस ने व्हिप जारी किया था। सत्तारूढ़ दल ने मुस्लि’म महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक को राज्यसभा में 84 के मुकाबले 99 वोट से पारित करा लिया। सूत्रों ने बताया कि विपक्ष के सदस्य अगर सदन में मौजूद होते तो यह विधेयक को प्रवर समिति के पास भिजवा सकता था।

Image Source: Google

बता दें कांग्रेस के जो पांच सदस्य गैर हाजिर रहे उनमें विवेक तनखा, प्रताप सिंह बाजवा, मुकुट मिथी और रंजीब बिस्वाल के अलावा संजय सिंह भी हैं। संजय सिंह ने इससे पहले आज ही कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। कांग्रेस और सपा सदस्यों के अलावा राकांपा के वरिष्ठ नेता शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल भी सदन में अनुपस्थित रहे। इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस, द्रमुक, आईयूएमएल और केरल कांग्रेस के एक एक सदस्य भी वोटिंग के दौरान गैर हाजिर रहे।

वोटिंग के दौरान के टी एस तुलसी भी अनुपस्थित थे जो नामित सदस्य हैं लेकिन वह विधेयक का विरोध करते रहे थे। विपक्षी दल के सदस्यों की गैर हाजिरी के अलावा अन्नाद्रमुक बसपा और टीआरएस के सदस्य भी सदन में नहीं थे जिससे सरकार ने ऊपरी सदन में इस विधेयक को पारित करा लिया। गौरतलब है कि सत्तारूढ़ दल के पास ऊपरी सदन में बहुमत नहीं है।