VIDEO: दुनिया के सबसे धावक क्रिकेटर हाशिम अमला का यह धार्मिक समर्पण हमेशा अपने आप में मिसाल बना रहेगा

नई दिल्ली: दुनियाभर में सबसे ईमानदार क्रिकेटर माने जाने वाले दक्षिण अफ्रीका के महानतम खिलाड़ियों में से एक हाशिम अमला के फेसले से दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमी हैरान हैं. 36 साल के हाशिम अमला अभी आने वाले कई साल क्रिकेट खेल सकते थे लेकिन अमला ने अपने 15 साल के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से पूरी तरह सन्यास लेने का ऐलान कर दिया है। आपको बता दें हाशिम अमला अपने धर्म के प्रति समर्पण की मिसाल है जिसे हमेशा याद किया जाएगा और जिसकी हमेशा मिसाल दी जाएगी।

बता दें हाशिम अमला के संन्यास से दुनिया भर के क्रिकेटप्रेमी इसलिए भी हैरान हैं क्योकि उनके पास कई और रिकॉर्ड अपनी झोली में डालने का मौका था. मसलब वह दोनों टेस्ट और वनडे दोनों फॉर्मेटों में दस हजार रन को अपना उद्देश्य बना सकते थे. लेकिन शायद रिकॉर्ड हाशिम अमला की प्राथमिकता नहीं रहे। और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास लेने का ऐलान कर दिया।

अमला ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों प्रारुपों टेस्ट वनडे और टी20 में उन्होंने कुल 19 हजार 737 रन बनाए हैं। हलाकि अमला ने संन्यास लेने की घोषणा करते हुए कहा कि वह घरेलू क्रिकेट और मज़ांसी सुपर लीग खेलते रहेंगे। वही भारत के खिलाफ 28 नवंबर 2014 को दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए टेस्ट मैच से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले 36 वर्षीय अमला 15 वर्षों तक दक्षिण अफ्रीका के लिए खेले।

अमला ने 124 टेस्ट मैचों की 215 पारियों में 16 बार नाबाद रहते हुए 46.64 के औसत से 9,282 रन बनाए। वही टेस्ट में अमला के नाम 28 शतक और 41 अर्धशतक दर्ज हैं। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 311 रन रहा।

आपको बता दें कि हाशिम अमला एक ऐसे खिलाड़ी रहे हैं, जिन्होंने अपने करियर कभी भी बीयर या किसी शराब का प्रचार-प्रसार नहीं किया इस्लाम घर्म में इन दोनों के ही सेवन प्रतिबंधित है और हाशिम अमला ने हमेशा ही इनसे दूरी बनाई रखी जिसको लेकर अमला कई बार सुर्खियों में भी रहे है और एक समय ऐसा भी आया, जब उन्होंने अपनी जर्सी पर ‘कैस्टल लैजर’ कंपनी का लोगो लगाने से साफ इनकार कर दिया।

जर्सी पर कैस्टल लैजर कंपनी को नहीं लगाने को लेकर हाशिम अमला ने दुनिया को दिखा दिया था की वह अपने धार्मिक मूल्यों के प्रति कितने ज्यादा समर्पित हैं इस फैसले के लिए अमला को प्रायोजक से मिलने वाली रकम भी गंवानी पड़ी. और इतना ही नहीं उन्हें इसके लिए दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड को जुर्माना तक भरना पड़ा था।

दक्षिण अफ्रीका को हाशिम अमला की मांग के आगे झुकना पड़ा. और बोर्ड ने अमला को अपनी शर्ट से कंपनी का लोगो हटाने की इजाजत दी थी जिसके बाद अमला को दुनियाभर की मीडिया ने कबर किया था।