VIDEO: बुलंदशहर, जे’ल से निकले आ$तंकियों का फूल माला पहनाकर स्वागत जय श्री राम के लगे नारे

पिछले साल दिसंबर महीने को स्याना के चिंगरावटी गांव में हुई घट’ना के आरोपियों को कल कोर्ट ने बेल पर रिहा कर दिया है जिसके बाद बुलंदशहर के आरोपियों के छूटने पर हिन्दू संगठ’नों के लोगों ने उनका ज़ोर शोर से नारे बा’जी कर फूल मला पहना कर उनका स्वागत किया| इतना ही नहीं उन आरोपियों के बाहर आने पर लोगों ने खुशिया मनाते हुए उनके साथ सेल्फी भी निकाली| इस पूरी वारदात का किसी ने एक वीडियो बना लिया था जो अब सोशल मीडिया पर तेज़ी वायरल हो रहा है|

बता दें की पिछले साल दिसंबर महीने को स्याना के चिंगरावटी गांव में गौक’शी की अफवाह के बाद इलाके में लोग हिं’स#क हो गए थे जिसके चलते वहाँ के मौजूदा इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की गो’ली मा’रकर ह#त्या कर दी गई थी. पूरे गांव में बवा’ल फेल गया था| बवाल इतना बढ़ गया था कि गांव के लोगों ने सरकारी वाहन और पुलिस चौकी को आ’ग के हवा’ले कर दिया था|

इस दं’गे में पाए जाने वाले आरोपियों को उत्तरप्रदेश की पुलिस ने 38 लोगों को गिरफ्ता’र किया था जिसमे से 6 आरोपियों को जमानत पर शनिवार को कोर्ट ने रिहा कर दिया| मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ बुंदेलशहर में घट’ना के आरो’पी, जीतू फौजी शिखर अग्रवाल हेमू, उपेंद्र सिंह राघव सौरव और रोहित राघव यह 6 हैं जिनको कोर्ट ने रिहा कर दिया है|

बता दें कि शनिवार को जैसे ही यह लोग बाहर आये तो हिन्दूवादी संगठ’न से जुड़े लोगों ने फूल माला पहनाकर उनका स्वागत किया। इस दौरान भारत माता की जय वन्दे मातरम और जय श्री राम के नारे भी लगे। इस घट’ना का एक वीडियो भी सामने आया जिसमे आरोपियों को फूलों की माला पहना’ई जा रही है. कुछ लोग आरोपि’यों के संग सेल्फी लेते हुए भी नजर आ रहे हैं|

मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक़ शिखर अग्रवाल भाजपा युवा मोर्चा के स्याना के पूर्व नगर अध्यक्ष हैं। जबकि उपेंद्र सिंह राघव अंताराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के विभाग अध्यक्ष हैं। घट’ना से पहले वह विश्व हिंदू परिषद के विभाग अध्यक्ष रह चुके थे।

बता दें कि बुलंदशहर में उस वक्त हिं#सा भड़’क गई थी जब कुछ लोगों को गो’वं’श के टुकड़े गांव में मिले थे जिसके बाद गांव के 400 लोगों ने मिलकर हंगामा किया. कई वाहनों को आ’ग लगा दी गई और पुलिस पर प’त्थ’र और कथि’त तौर पर गो’लि’यां चलाईं. इस घट’ना में इंस्पे’क्ट’र सुबोध कुमार सिंह के अलावा और एक और युवक की मौ’त हो गई थी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी का गठन करते हुए इस मामले की जांच के आदेश दिए थे. जिसमें 5 लोगों पर इंस्पे’क्ट’र सुबोध की ह#त्या का आरोप लगा था साथ ही 33 लोगों पर आरो’प लगाए थे. जिनमें शिखर अग्रवार और उपेंद्र राघव का नाम शामिल है|

Leave a comment