Citizenship Bill: नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ़ सुप्रीम कोर्ट पहुंची TMC सांसद महुआ मोइत्रा

नई दिल्‍ली: तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद महुआ मोइत्रा शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। उन्‍होंने कोर्ट में याचिका दायर कर नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) की संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाया और याचिका दायर की है। हालांकि चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने इस मामले पर आज त्‍वरित सुनवाई से इंकार करते हुए वकील से इस मामले को मेंशन करने के लिए कहा है।

बता दें नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के साथ ही नया कानून बन चुका है. इस कानून के मंजूर होते ही पूर्वोत्तर राज्यों में काफी प्रदर्शन हो रहा है. प्रदर्शनकारियों की मांग है कि इसे तत्काल रद्द किया जाए। नागरिकता संशोधन कानून का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है।

TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने नागरिकता संशोधन कानून की वैधता पर उठाया सवाल

वही शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा भी (CAB) खिलाफ शीर्ष अदालत पहुंच गई हैं। उन्होंने चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े से केस की जल्द सुनवाई की मांग की है. मुख्य न्यायाधीश ने उनसे कहा कि आज शुक्रवार सुनवाई नहीं होगी, आप रजिस्ट्रार के पास जाएं। वही मोइत्रा के वकील ने पीठ से अनुरोध किया कि याचिका को आज अथवा 16 दिसंबर को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करें।

आपको बता दें राष्ट्रपति की मुहर लगने के बाद नागरिकता संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने वाली पहली याचिका वकील एहतेशाम हाशमी ने दाखिल की है. याचिका में एक्ट को असंवैधानिक करार देते हुए रद्द करने की मांग की गई है।

वही पिटीशन में इस बात का भी जिक्र है कि यह ए’क्ट धर्म और समानता के आधार पर भेदभा’व करता है। याचिका में यह भी कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट मुस्लिम समुदाय के जीवन, निजी स्वतंत्रता और गरिमा की रक्षा करे।

आपको बता दें नागरिकता संशोधन विधेयक बिल में अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए गैर मुस्लि’म शर’णार्थि’यों हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है। बता दें इसमें मुस्लि’मो का जिक्र नहीं है।

Leave a comment