VIDEO: मिलिए 17 साल की उस मदरसा टीचर की बेटी सफा से, जो वायनाड में राहुल गांधी के भाषण का अनुवाद कर सोशल मीडिया पर छा गई

वायनाड: पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों केरल की यात्रा पर हैं। इस दौरान वह अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड भी पहुंचे जहाँ उन्होंने एक स्कूल में भाषण दिया। वायनाड के करुवराक्कुंडु के एक सरकारी उच्चतर माध्यमिक स्कूल में राहुल गांधी भाषण दे रहे थे। यहां उस स्कूल की एक 12वीं कक्षा की छात्रा ने उनके भाषण का मलयालम में शानदार अनुवाद कर चर्चा का केन्द्र बन गई। राहुल ने खुद इसका वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है।

दरअसल, वायनाड के करुवराक्कुंडु के एक सरकारी उच्चतर माध्यमिक स्कूल की 17 साल की छात्रा फातिमा सफा राहुल गांधी का भाषण सुन रही थीं. इस दौरान गांधी ने छात्रों से पूछा कि क्या कोई छात्र उनके भाषण का अनुवाद करना चाहेगा. गांधी ने कहा, मैं जो कह रहा हूं, क्या यहां मौजूद कोई छात्र उसका अनुवाद करना चाहेगा?

वायनाड में राहुल गांधी के भाषण का मदरसा टीचर की बेटी ने किया मलयालम में अनुवाद

इस पर 11वीं की छात्रा फातिमा सफा ने हाथ उठाया। राहुल ने सफा को मंच पर आने को कहा और सफा ने भी बगैर हिचकिचाहट राहुल के भाषण का मलयालम में शानदार तरीके से अनुवाद करने लगी। 15 मिनट के भाषण के दौरान राहुल गांधी अंग्रेजी में भाषण देते रहे और सफा ने उनके पूरे भाषण का मलयालम भाषा में शानदार तरीके से अनुवाद किया। जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

भाषण के बाद राहुल ने सफा की प्रशंसा करते हुए सफा से हाथ मिलाया और उसे चॉकलेट भी दी। इसे लेकर सफा ने कहा कि उसने ये कभी सोचा भी नहीं था कि उसे ऐसा मौका मिलेगा। बता दें 12वीं की छात्रा फातिमा सफा का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी सराहा जा रहा है। इसके बाद सफा ने अपने शानदार अनुवाद के लिए लोगों के साथ साथ स्कूल को भी गौरवान्वित किया।

मदरसा टीचर की बेटी हैं सफा

 

सफा सरकारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की कक्षा 12 की छात्रा है। उनके पिता मदरसे के एक अध्यापक है। पिता कुन्ही मुहम्मद अपनी बेटी सफा पर गर्व महसूस करते हुए कहते हैं सारा श्रेय उसे जाना चाहिए वह एक पढ़ाकू लड़की। लेकिन मुझे कभी नहीं पता था कि उसके पास भाषणों को खूबसूरती से अनुवाद करने का हुनर भी है।

वही बाद में मीडिया से बात करते हुए सफा फीबिन ने कहा कि आज का दिन मेरे लिए मनोबल बढ़ाने वाला दिन है। उन्होंने आगे कहा की जब राहुल गांधी ने अनुवाद के बारे में बात की तो मैं जाना चाहती थी लेकिन चुप रही फिर मेरे दोस्तों ने उसे उकसाया और मैंने उनके भाषण का अनुवाद किया। जब मैं स्टेज पर गई तो एक पल के लिए मुझे लगा कि मैं सपना देख रही हूं। लेकिन जल्द ही मैंने अपना आत्मविश्वास को जगाया और अच्छी तरह से करने में कामयाब रही।

आपको बता दें तीन दिन के दौरे पर केरल के वायनाड पहुंचे सांसद राहुल गांधी मलप्पुरम स्थित एक स्कूल में गए और छात्रों को संबोधित किया। इस दौरान 11वीं में पढ़ने वाली सफा राहुल गांधी की ट्रांसलेटर बनीं। 15 मिनट के भाषण के दौरान राहुल गांधी अंग्रेजी में बोल रहे थे और सफा ने अपने उनके पूरे भाषण का मलयालम में अनुवाद किया।