UAE में भारतीय ईसाई बने सद्भावना की मिसाल, कर्मचारियों के लिए बनवाई मस्जिद, हर रोज़ 800 लोगो को करा रहे…

एक तरफ दुनिया भर के कई देशों से अतिवाद के चलते आए दिन होने वाली हिं’सा की खबरें सामने आ रही है, वहीं दूसरी तरह ऐसे में संयुक्त अरब अमीरात में मस्जिद बनाने और रमजान के पावन महीने में करीब 800 कर्मियों को इफ्तार कराने वाले एक भारतीय ईसाई धार्मिक सद्भावना की मिसाल दुनिया के सामने पेश कर रहे हैं.

केरल के कायमकुल के रहने वाले 49 वर्षीय साजी चेरियन ने फुजैरा में मुस्लिम कर्मियों के लिए पिछले साल ही एक मस्जिद बनवाई थी. उन्होंने इस मस्जिद का निर्माण र्किमयों के उस आवासीय स्थल पर कराया है जो उन्होंने 53 कंपनियों को किराए पर दिया है.

Image Source: Google

साजी चेरियन ने पाया कि जहां पर रहने वाले मुस्लिम कर्मियों को नमाज पढ़ने के लिए निकटवर्ती मस्जिद में जाना पड़ता है और इसके चलते उनकी कमाई का एक बड़ा हिस्सा टैक्सी किराए के रूप में खर्च हो जाता है. यह देखते हुए उन्होंने मरियम उम्म ईसा मस्जिद का निर्माण करवाया.

गल्फ न्यूज के अनुसार कुछ सौ दिरहम के साथ 2003 में यूएई पहुंचे चेरियन कई कंपनियों के र्किमयों एवं अधिकारियों समेत करीब 800 लोगों को इफ्तार भी कराते हैं. न्यूज़ पेपर ने चेरियन के हवाले से कहा कि मस्जिद पिछले साल रमजान की 17वीं रात को खुली थी.

Image Source: Google

इसलिए मैं सिर्फ शेष बने दिनों के लिए ही इफ्तार करवा सका था. लेकिन इस साल से मैं हर रोज ऐसा करूंगा. बुधवार को मस्जिद में इफ्तार करने वाले पाकिस्तानी बस चालक अब्दुल कायूम ने कहा कि दुनिया को चेरियन जैसे लोगों की ही जरूरत है. अगर दुनिया में उनके जैसे लोग नहीं रहेगे तो दुनिया खत्म हो जाएगी हम उनके लिए दुआ करते हैं.

वहीं एक कंपनी में भारतीय सहायक प्रबंधक वजास अब्दुल वाहिद ने कहा कि इस इलाके में 50 से अधिक कंपनियों के कर्मचारी रहती हैं. उन्होंने कहा कि वरिष्ठ कर्मी एवं श्रमिक अलग-अलग आवासों में रहते हैं लेकिन जब हम यहां आते हैं तो सब बराबर होते हैं. हम सभी एक साथ नमाज पढ़ते हैं और इफ्तार करते हैं.