उन्नाव सड़क हाद’सा मामला: बीजेपी पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर ह$त्या के आरोप में ब’री, जानिये पूरा मामला

उन्नाव में दुष्क’र्म पीड़ि’ता दुर्घट’ना मामले ने एक और नया मोड़ ले लिया है जिसके चलते इस मामले के आरोपी बीजेपी के पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर को उनके अन्य साथियों के साथ ब’री कर दिया है| बता दें कि शुक्रवार को सीबीआई अधिकारी ने बीजेपी नेता को उनके अन्य साथियों के साथ क्लीन चिट देते हुए यह जानकारी दी है कि इस हाद’से में पीड़ि’ता के दो रिश्तेदा’रों की मौ’त हो गई थी| लखनऊ में विशेष सीबीआई द्वारा अदालत में दाखिल अपने पहले आरोपपत्र में सीबीआई ने प्राथमिकी में नामजद कुलदीप सेंगर और अन्य सभी आरोपि’यों को आ’पराधि’क साजि’श रचने संब’द्ध भारतीय दं’ड संहिता की धारा’ओं के तहत आरो’पी बनाया था|

गौरतलब है कि सीबीआई ने अपनी प्राथमिकी में सेंगर और नौ अन्य के वि’रूद्ध आ’पराधि’क साजि’श, ह#त्या, और ह#त्या के प्रयास तथा डरा’ने धमका’ने से संबंधि’त धारा’ओं के तहत माम’ला दर्ज किया था| वहीँ अब इसी के चलते सेंगर को भाजपा से निष्का’सि’त कर दिया था.

जानकारी के मुताबिक़ सेंगर ने 2017 में पीड़ि’ता का कथित तौर पर दु’ष्क’र्म किया था, उस समय पीड़ि’ता ना’बालि’ग थी| साथ ही वह 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश के रायबरे’ली जिले में हुए सड़क हादसे में गं’भी’र रूप से घाय’ल हो गई थी| जिसके चलते पीड़ि’ता की कार को एक तेज रफ्तार ट्रक ने टक्क’र मा’र दी थी, जिसमें उसके दो रिश्तेदारों की मौ’त हो गई थी और उनका वकील गंभी’र रूप से घाय’ल हो गया था|

इसी के साथ अधिकारियों ने बताया कि हा’दसे से जुड़े ट्रक चालक आशीष कुमार पाल पर लापरवा’ही के चलते किसी की मौ’त की वजह बनने, किसी की जान जोखिम में डालकर उसे गंभी’र चोट पहुंचाने, लापरवा’ही से वाहन चलाने से सं’बद्ध धारा’ओं के त’हत आरो’पी बना’या था|

साथ ही अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई के आरोप पत्र में पाल के खिला’फ आ’पराधि’क ष’ड्यं’त्र रच’ने का कोई आरोप नहीं लगाया गया है| जिसके चलते एजेंसी ने उत्तर प्रदेश सरकार से कुछ अधिकारियों के खि’ला’फ वि’भागी’य कार्रवाई करने की सिफारिश की है, लेकिन अभी उनकी पहचान उजागर नहीं की है|

बता दें कि तैनात किये गए सु’रक्षाकर्मि’यों में हा’द’से के समय पी’ड़ि’ता की सुरक्षा में उत्तर प्रदेश पुलिस का कोई सुरक्षा कर्मी तैनात नहीं था, इन सुर’क्षाकर्मि’यों को भी नि’लंबि’त कर दिया गया है|

जानकारी के लिए बता दें कि हादसे के दो दिन बाद सीबीआई ने 30 जुलाई को सेंग’र, उसके भाई मनोज सिंह सेंग’र, उत्तर प्रदेश के एक मंत्री के दामा’द अरुण सिंह और सात अन्य के खि’ला’फ माम’ला दर्ज किया था|

साभारः #NDTVIndia