उत्तर प्रदेश में मुस्लिम परिवारों की तैयारी- अगर मोदी दोबारा चुनाव जीते तो उन्हें गाँव छोड़ना पड़ेगा, जानिए क्यों ?

देश भर में हुए लोकसभा चुनाव के नतीजें आने में अब सिर्फ कुछ ही घंटों का इंतजार है. इसी बीच यूपी के नयाबांस के मुसलमानों ने बताया कि अब इस गांव में हिन्दू-मुस्लिम आपस में बात नहीं करते हैं. रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार बुलंदशहर के इस गांव में रहने वाले मुस्लिमों का कहना है कि पहले ऐसा कभी नहीं हुआ और यहां पर मुस्लिमों के बच्चे भी हिन्दू बच्चों के साथ खेला करते थे.

लेकिन अब कई मुस्लिम आतंकित हैं और उनका कहना है कि पिछले 2 सालों में गांव के दोनों समुदाय के बीच ध्रुवीकरण इतना ज्यादा बढ़ चूका है कि कई मुस्लिम लोग यहां से निकलने के बारे में सोच रहे हैं. न्यूज एजेंसी से बातचीत में कई मुसलमानों ने कहा कि अगर भाजपा दोबरा जीत दर्ज करती है और केंद्र में मोदी सरकार दिर आते है तो उन्हें लगता है कि तनाव और बढ़ जाएगा.

Image Source: Reuters

छोटी सी दुकान चलाने वाले गुलफाम अली ने बताया कि पहले चीजें काफी अच्छी थीं. मुस्लिम-हिन्दू अच्छे और बुरे समय में एक साथ रहते थे. लेकिन मोदी और योगी ने सब गड़बड़ कर दी. अब हम इस जगह को छोड़ना चाहते हैं लेकिन असल में ऐसा नहीं कर सकते है.

अली कहते है कि करीब एक दर्जन मुस्लिम परिवार बीते दो साल के अंदर गांव छोड़ चुके हैं जिनमें उनके अंकल भी शामिल हैं. हालांकि बीजेपी ध्रुवीकरण के जरिए हिन्दू-मुस्लिम को बांटने की नीतियों से हमेशा इनकार करती रही है.

पिछले साल हुए बुलंदशहर बवाल के दौरान इसी इलाके में हिन्दुओं ने शिकायत की थी कि उन्होंने कुछ मुस्लिमों को गाय काटते हुए देखा हैं. इसी के बाद गुस्साई भीड़ द्वारा एक पुलिस अधिकारी की ह’त्या कर दी गई थी. नयाबांस गांव में करीब 400 मुस्लिम जबकि गांव की आबादी 4000 से अधिक की हैं.

बुलंदशहर की हिं’सा को 5 महीने बीत चुके है लेकिन गांव के मुस्लिम आज तक इस घटना से उबर नहीं पाए हैं. 55 वर्षीय बढ़ई जब्बार अली ने यहां से निकलकर मुस्लिम बहुल मसुरी में घर ले लिया है. वो कहते है कि अगर सुरक्षाकर्मियों के साथ रहने वाले हिन्दू पुलिस इंस्पेक्टर को थाने के सामने हिन्दू मा’र देते हैं तो हम मुस्लिम कौन होते हैं?

उन्होंने अब भी नयाबांस में अपना घर रख रखा है और कभी कभार आते रहते हैं. उन्होंने कहा कि अगर देश में मोदी फिर से केंद्र में सरकार बनाते हैं और यूपी में योगी का राज रहता है तो मुस्लिमों को शायद इस गांव को खाली करना पड़ेगा. हालांकि कई मुस्लिम इसी गांव में रहने की बात भी कहते हैं.