VIDEO: ये पत्रकारिता है या गुंडागर्दी? सुदर्शन न्यूज़ के रिपोर्टरों का तलवारों के साथ वीडियो वायरल

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरु युनिवर्सिटी (जेएनयू) में बढ़ी हुई फीस वापसी की मांग को लेकर छात्रों ने संसद तक प्रोटेस्ट मार्च निकला और इसके बाद पुलिस ने छात्रों को रोकने के लिए जह-जगह बैरिकेड्स लगाए गए थे लेकिन छात्रों ने बैरीकेट्स तो’ड़ दिए। इसके बाद भी पुलिस ने उन्हें रोकने की तमाम कोशिश की तो छात्रों ने छोटे-छोटे ग्रुप्स बनाकर में अलग अलग रास्तों से संसद की तरफ बढ़ने लगे। पुलिस ने छात्रों को संफदरजंग टॉम्ब के पास रोका। पुलिस ने पोस्टर लगाकर, लाउड स्पीकर के जरिए छात्रों से बात करने की कोशिश की लेकिन छात्र अपनी मांगो को लेकर अड़े रहे।

प्रोटेस्ट के दौरान पुलिस ने उन्हें बताने की कोशिश की कि ये संवेदनशील इलाका है और धारा 144 लागू है लेकिन जब इसके बाद भी छात्र नहीं माने तो फिर पुलिस को सख्ती बरतनी पड़ी। पुलिस ने छात्रों पर ला’ठीचा’र्ज किया, जिसे जहां मौका मिला भागता रहा और जो पकड़े गए उस पर ला’ठी डंडों की बारिश हो गई। किसी का सिर फूटा, तो किसी के हाथ पैर में चोट लगी। 100 से ज्यादा छात्रों को पुलिस ने गिरफ्तार कर बस में ले गई। इसके बावजूद छात्र डटे रहे।

आपको बता दें संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन जेएनयू के छात्रों ने संसद तक प्रोटेस्ट मार्च किया और उसके बाद जो पुलिस लाठीचार्ज हुआ, उसको लेकर तमाम तरह की सोशल मीडिया पोस्ट, वीडियोस और मीडिया रिपोर्ट्स आप सबने देखी होंगी। ऐसे में सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है एक ऐसे वीडियो की जिसमें जेएनयू के छात्रों से घिरी एक टीवी रिपोर्टर गुस्से में कह रही है, फाड़ के रख देंगे।

सुदर्शन न्यूज के एडिटर और चीफ सुरेश चव्हाणके भी अपने एक वीडियो को लेकर चर्चा में हैं। आपको बता दें सुरेश चव्हाणके भी कई बार अपने भड़काऊ बयानों के चलते सोशल मीडिया में सुर्खियों में रहता है इसी को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में है आपको बता दें सुरेश चव्हाणके का एक वीडियो ट्विटर पर वायरल हो रहा है। जिसमे वह अपने दफ्तर की महिला कर्मचारियों के साथ हाथ में तलवा’र और सिर पर पगड़ी पहनकर दिख रहा हैं।

दरअसल सुदर्शन न्यूज की एक रिपोर्टर के मुताबिक सुरेश चव्हाणके ने कुछ महिला रिपोर्टर को सम्मानित करते हुए उन्हें तलवा’र और पगड़ी दी है। असल में सुदर्शन न्यूज का दावा है कि जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के छात्रों की प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुदर्शन की 8 महिला रिपोर्टरों ने उन्हें बोलने नहीं दिया। ये 8 महिला रिपोर्टर प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसलिए गई थी ताकि वह बढ़े फीस के विरोध में सोमवार को हुए संसद मार्च के दौरान साथी रिपोर्टर से हुई बदतमीजी का जवाब मांग सके।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो में सुदर्शन न्यूज़ के पत्रकार हमसे जो टकराएगा, चूर चूर हो जायेगा के नारे लगाते हुए देखा जा सकता है।इस वीडियो में प्रधान संपादक, सुरेश चव्हाणके भारत माता की जय का नारा लगाते हुए देखे जा सकते हैं। वही इसी को लेकर समाचार चैनल के पत्रकारों में से एक, जोजो नाक्रो नागा ने ट्वीट किया, of हमारे दोस्त के लिए खड़े होने में बहुत बहादुरी है। जेएनयू ने हमारी महिला रिपोर्टर से बदसलूकी की और हमें चुप कराने की कोशिश की लेकिन हम पीछे हट गए।