Video: विश्व प्रसिद्ध मौलाना के जनाज़े में उमड़ी लाखों की भीड़, लोगों ने कहा- मौ’त हो तो ऐसी

पूरे देश भर में हिंदू मुस्लिम एकता की मिसाल रहे विश्व प्रसिद्ध मौलाना हजरत इस्तकार उल हसन का कल शाम के वक्त इंतकाल हो गया था. मौलाना तकरीर वन 100 वर्ष के बताए जाते हैं जैसे ही लोगों को मौलाना साहब के इंतकाल की खबर मिली तो उनकी एक झलक देखने को देखते ही देखते लाखों की भीड़ जमा हो गई. और फिर पीर के दिन सुबह उनके जनाजे को उत्तर प्रदेश स्थित कांधला ईदगाह के कब्रिस्तान में सुपर देखा किया गया मौलाना साहब की जन्मभूमि शामली के कस्बा कांधला में ही थी.

इन मौलाना साहब का काफी बड़ा रुतबा बताया जाता है, और यह हिंदू मुस्लिम एकता की कितनी बड़ी मिसाल थे इसका अंदाजा इनके जनाजे को देखते हुए ही हो रहा था. क्योंकि मुस्लिमों के अलावा काफी बड़ी मात्रा में गैर मुस्लिम लोग भी आपके जनाजे में शामिल हुए थे.

मौलाना साहब के जनाजे की नमाज दिल्ली से आए मौलाना साद साहब ने पढ़ाई थी. आपको बता दें दोस्तों कि मौलाना साहब का इतवार की शाम को तकरीबन 6:00 बजे के लगभग इंतकाल हो गया था.

जैसे ही इनके इंतकाल की सूचना कस्बे और दुसरे जिले के लोगों को मिली तो प्रदेश और अलग-अलग जिलों से लोगों का आना शुरू हो गया.

इस दौरान आजम खान भी मौलाना साहब के जनाजे में शामिल हुए और लाखों की भीड़ ने जनाजे की नमाज मैं उनके लिए बक्शीश की दुआ की. सभी ने मौलाना साहब के लिए दुआ करते हुए उनको आखिरी मिट्टी दी. इस दौरान कानून व्यवस्था को सँभालने के लिए वहां काफी तादाद में पुलिस सुरक्षा बालों को भी तैनात किया गया था.

उत्तर प्रदेश में इससे पहले भी अजहरी मियां के इंतकाल पर ठीक इसी तरह से लाखों लोगों का जनसैलाब उमड़ा था. उस दौरान भी प्रशासन ने कड़ी मेहनत के साथ व्यवस्थाओं को संभाले रखा था. बताया जाता है की वे जिस गाँव के थे वहां परेश के जगह-जगह से आने वाले लोगों से जनता गाँव में नहीं समा प् रही थी.