VIDEO: मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, मस्जिद के लिए किसी और जगह जमीन नहीं करेंगे स्वीकार, जानिए बैठक की पांच खास बातें

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) की बैठक के बाद यह फैसला किया गया बोर्ड की तरफ अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा साथ ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा मस्जिद के लिए वैकल्पिक स्थान पर पांच एकड़ की जमीन भी स्वीकार नहीं करेगा। लखनऊ के मुमताज पीजी कॉलेज में रविवार को बोर्ड के कार्यकारिणी सदस्यों की बैठक में ये फैसला लिया गया। बैठक के बाद बोर्ड के सदस्यों ने मामले की जानकारी प्रेस कांफ्रेस कर दी।

आपको बता दें इससे पहले मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक का स्थान बदला गया था। यह बैठक पहले लखनऊ के नदवा कॉलेज में होनी थी, लेकिन सभी सदस्य को जमा न होने के बाद आल इंडिया मुस्लि’म पर्सनल बोर्ड ने मीटिंग की जगह बदल दी। जिसके बाद मुमताज पीजी कॉलेज में बैठक की गई ।दरअसल सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर AIMPLB में दो राय थीं। कुछ सदस्य चाहते हैं कि अब मामले में कोई याचिका न दायर की जाए, जबकि कुछ चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल की जाए।

यहाँ जानिए मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में हुए ऐलान की पांच बातें

मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में अयोध्या फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर करने का निर्णय लिया गया। बैठक के बाद यह कहा गया कि मस्जिद के लिए दूसरी जगह पर जमीन स्वीकार नहीं की जाएगी।

जमीयत उलेमा हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि अयोध्या पर पुनर्विचार याचिका दायर की जाएगी। मदनी ने कहा कि सौ फीसदी पुनर्विचार याचिका खारिज होगी, उसके बावजूद यह दायर करना हमारा हक है।

मौलाना मदनी ने कहा, ‘हमें पता है सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका 100 प्रतिशत खारिज होगी। लेकिन पुनर्विचार याचिका दाखिल करना हमारा अधिकार है और हमें इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

वही एआईएमपीएलबी ने कहा कि जमीन की पेशकश को कबूल नहीं किया जायेगा। आपको बता दें सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या पर फैसला देते हुुए मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन देने का फैसला दिया था। मुस्लि’म संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी बैठक बीच में छोड़कर चले गये। पत्रकारों द्वारा पूछने पर उन्होंने वजह नहीं बतायी।

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला मंदिर के हक में जाने के बाद रविवार को ऑल इंडिया मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड ने इस मसले पर बैठक की। बैठक में बोर्ड के अध्यक्ष राबे हसन नदवी समेत असदुद्दीन ओवैसी और जफरयाब जिलानी भी मौजूद रहे। बैठक के दो प्रमुख एजेंडे सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिला’फ पुनर्विचार याचिका लगाई जाए या नहीं और मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन ली जाये या नहीं?