6 ऐसे काम जो सऊदी अरब में महिलाएं नहीं कर सकती, जानकर होगी हैरानी

सऊदी अरब की महिलाओं को भी धीरे धीरे समानता का अधिकार मिलने लगा है। आजादी के साथ हवा में उड़ने का उनका सपना लगभग अब साकार होने की राह पर है। इसी सिलसिले में सऊदी महिलाओं को अब ड्राइव करने की अनुमति मिल गई है। इसके पहले वहां कि महिलाओं को ड्राइव करने की अनुमति प्राप्त नहीं थी। लेकिन अब इस प्रतिबंध से छुटकारा दिलाते हुए सऊदी सरकार ने उनके लिए ऐतिहासिक फैसला किया और उन्हें आजादी के साथ हवा में उड़ने की अनुमति दे दी।

सऊदी में महिलाओं ड्राइविंग ही इकलौता अधिकार नहीं जिससे अब तक वहां की महिलाएं महरूम थीं। अभी भी कई ऐसी चीजें हैं जो वे नहीं कर सकती हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं वे कौन सी चीजें हैं जिन्हें आज भी सऊदी की महिलाएं नहीं कर सकती हैं। क्योकि सऊदी अरब में शरीयत कानून लागू है और इस कानून के चलते महिलाओं को कई अधिकार नहीं दिए गए है।

Image Source Google

पूरी दुनिया में जहां महिलाएं अपनी आजादी का फर्राटा भर रही थी तो वहीं उस आजादी की रफ्तार सऊदी अरब आते-आते कम हो जाती है। क्‍योंकि सऊदी अरब में रहने वाली महिलाओं को कार चलाने का अधिकार नहीं था। लेकिन अब सऊदी हुकूमत ने महिलाओं को कार ड्राइव करने की अनुमति दे दी गई है

Image Source Google

सऊदी अरब में महिलाओं का किसी गैर पुरुष से बातचीत करने पर भी पाबंदी है। सऊदी में बैंक, यूनिवर्सिटी, सरकारी इमारतों और ऑफिसों में महिलाओं और पुरुषों के लिए आने-जाने के अलग-अलग रास्‍ते हैं। यही हाल सऊदी अरब के अधिकतर स्‍थानों पर पार्क, समुद्र किनाारे और पब्लिक ट्रांसपोर्ट में भी महिलाओं पर यह नियम लागू होते हैं। अगर नियम तोड़ते हुए पाया जाता है तो महिलाओं और पुरुष दोनों को सजा दी जाती है।

Image Source Google

पब्लिक स्‍वीमिंग पुल में सऊदी अरब की महिलाएं नहीं जा सकती हैं। पब्लिक स्‍वीमिंग पुल में सिर्फ पुरुष ही जा सकते हैं। महिलाओं को सिर्फ अपने जिम, प्राइवेट स्‍वीमिंग पुल और स्‍पा में जाने की इजाजत है। महिलाएं वहीं पर उसका लुफ्त उठा सकती हैं।

Image Source Google

सऊदी में महिलाएं बाहर रेस्तरां में खाना नहीं खा सकती हैं क्योंकि वहां के रेस्तरां में अलग से फैमिली सेक्शन नहीं होता है। उन्हें सार्वजनिक स्थानों पर अबाया (एक प्रकार का वस्त्र जो सिर से लेकर पांव तक ढंका होता है) पहनना आवश्यक है। हालांकि रियाद में कुछ जगहों पर महिलाओं ने अपने चेहरे खुले रखने शुरू कर दिए हैं।

Image Source Google

सऊदी अरब में इस्लामिक नियम के तहत मुस्लिम महिलाओं को गैर मुस्लिम पुरूष से विवाह करने से रोकते हैं, इस प्रकार के कृत्य सऊदी अरब में घोर अपराध माना जाता है। यहां तक कि एक सुन्नी महिला एक शिया पुरूष से शादी नहीं कर सकती है।

Image Source Google

सऊदी अरब में महिलाएं बराबर की विरासत की हकदार नहीं होती हैं। शरिया विरासत कानून के तहत बेटियों को बेटों को मिलने वाले विरासत का आधा दिया जाता है। उन्हें पासपोर्ट भी नहीं मिलता है, वे कहीं यात्रा नहीं कर सकती हैं, वे बैंक अकाउंट नहीं खुलवा सकती हैं। इतना ही नहीं किसी पुरूष अभिभावक की अनुमति के बिना किसी चिकित्सकीय प्रक्रिया से नहीं गुजर सकती हैं।