VIDEO: असदुद्दीन ओवैसी की अमित शाह को अनुच्छेद 370 पर खुली चुनौती कहा- क्या में हिमाचल में एग्रीकल्चर लैंड…

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने की प्रक्रिया को लेकर चारो तरफ़ घमासा’न मचा हुआ है। Article 370 को हटाने की प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। सुप्रीम कोर्ट में याचिका में अनुच्छेद 370 को हटाने के राष्ट्रपति के आदेश की अधिसूचना को संविधान की मूल भावना के खिला’फ बताया गया है। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि अनुच्छेद 370 हटाने के लिए सरकार द्वारा किया गया संशोधन असं’वैधानि’क है. सरकार ने मनमाने और असंवैधानिक ढंग से कार्रवाई की है।

मंगलवार को लोकसभा में जम्मू कश्मीर अनुच्छेद 370 बिल पर चर्चा करते हुए ऑल इण्डिया मजलिस ऐ इत्तेहादु’ल मुस्लिमी’न के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाया और कहा कि क्या वह हिमाचल में एग्रीकल्च’र लैं’ड खरीद सकते हैं? आपको बता दें कि धारा 118 के तहत हिमाचल में कृषक भू’मि नहीं खरीदी जा सकती है गैर हिमाचली को यहां जमीन खरीदने की इजाजत नहीं है।

Image Source: Google

आपको बता दें साल 1972 में हिमाचल में ये कानून बनाया गया. ऐसा इसलिए किया गया ताकि दूसरे राज्यों के पैसे वाले और सुविधा संपन्न लोग प्रदेश में जमीनें ना सकें दरअसल 70 के दशक में हिमाचल की जनता आर्थिक तौर पर इतनी मजबूत नहीं थी आशंका जताई गई कि लोग जमीनें बेच देंगे और हिमाचली भूमिहीन हो जाएंगे।

वही लोकसभा में मंगलवार को असदुद्दीन ओवैसी ने इस फैसले का विरोध करते हुए पूछा कि ईद पर क्या होगा बकरों के बजाय क्या कश्मीरी खुद को हला’ल करेंगे? उन्होंने कहा ईद पर क्या होगा। सोमवार को ईद है। क्या आप चाहते हैं कि ईद पर बकरों को हला’ल करने के बजाय कश्मीरी खुद को हलाल कर लें? अगर आप ऐसा चाहते हैं तो मैं आपको विश्वास के साथ बता रहा हूं वह ऐसा कर सकते हैं।

ओवैसी ने केंद्र सरकार पर निशाना सादते हुए कहा की निश्चित तौर पर बीजेपी अपने चुनावी घोषणापत्र में किए गए वादों को पूरा कर रही है लेकिन वह संवै’धानि’क कर्त’व्यों पर खरी नहीं उतरी है। उन्होंने एक वादा पूरा करने के लिए कश्मीरी आवाम से संविधान में किए गए वादे Article 370 को तोड़ दिया।