VIDEO: फिलिस्तीनियों के बुलंद जज़्बे को सलाम, 16 साल बाद खुला ‘मस्जिद अल-अक्सा’ का दरवाज़ा

फिलिस्तीन और इजराइल के बीच काफी लंबे समय से तनाव बना हुआ है. इसी दौरान इजरायली बालों ने फिलिस्तीन की मस्जिद अल अक्सा को अपने कब्जे में ले लिया था. इजरायल द्वारा मस्जिद को बंद कर दिया गया था जिसके बाद फिलिस्तीनी मुसलमान इसका लगातार विरोध कर रहे थे. इस दौरान कई बार फिलिस्तीनी मुसलमानों और इजरायल के सुरक्षा बलों के बीच हिं$सक झड़प देखने को मिलती रही. इस दौरान बड़ी तादात में इजरायल ने फिलिस्तीनी मुस्लिमों का खू$न बहाया और उनका क$ल्लेआम किया.

लेकिन इसके बाद भी फिलिस्तीनी मुसलमानों ने जज्बा नहीं हरा और वह अपने हक़ के लिए लड़ते रहे और अब आखिरकार फिलिस्तीनी अवाम ने मस्जिद अल अक्सा का अल रहमा गेट को 16 साल पर दुबारा खोल ही दिया. उन्होंने अपनी हिम्मत और हौसले से इसे संभव कर दिखाया.

Image Source: Google

साथ ही इस मौके पर फिलिस्तीनी मुस्लिमों द्वारा मोहब्बत के साथ जुमे की नमाज़ अदा की गई. आज के इस मामले ने ज़ियोनिस्ट मूवमेंट को दिखा दिया है कि असलहे और हथियार की ताक़त इंसानों की हिम्मत हौसले जज्बे और शुजाअत से बड़ी नहीं होती है. इंसान के हौसले के आगे यह सब कुछ भी नही है.

Image Source: Google

आपको बता दें कि मंगलवार शाम को इजरायली बलों के कब्जे वाले शहर यरुशलम में अल-अक्सा मस्जिद के अंदर फिलिस्तीनी मुस्लिम नमाजियों ने हमला बोल दिया था. इस दौरान इजरायल बलों के हमले से कई लोगों को घायल कर दिया जबकि कई अन्य लोगों को गिरफ्तार भी किया गया.

Image Source: Google

इज़रायल की जवाबी कार्रवाई अल-रहमा गेट के पास फ़्लैशपाइंट मस्जिद में मग़रिब की नमाज़ के बाद हुई. चश्मदीद गवाहों के अनुसार सैनिकों की संख्या बहुत बड़ी तादात में थी. वहीं फिलिस्तीनी रेड क्रीसेंट ने बताया कि उनकी टीम द्वारा अस्पताल में रास्ते से घायल एक नमाज़ी का इलाज किया गया.

Image Source: Google

वहीं बिना अधिक जानकारी दिए इजरायली बलों ने 22 फिलिस्तीनियों को मस्जिद परिसर से हिरासत में लिया है. वहीं रविवार शाम को इज़राइली पुलिस ने अस्थायी रूप से एक बार फिर से अल-रहमा गेट को बंद कर दिया जिससे बाद फिर से फिलिस्तीनी मुस्लिमों का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है.