मुस्लिम समुदाय पर ऊँगली उठाने वालों के खिलाफ़ कार्रवाई की जाय- सीएम येदियुरप्पा

बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने राज्य के मुस्लिम विधायकों ने उन लोगों का विवरण सरकार को उपलब्ध कराने पर सहमति जताई है जिन्होंने दिल्ली में तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। वे उन लोगों को कोविड-19 की जांच कराने और खुद को पृथक रखने के लिये भी मनाएंगे। येदियुरप्पा ने प्रदेश के मुस्लिम नेताओं और विधायकों के साथ एक बैठक कर राज्य में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में उनका सहयोग मांगा।

इस बैठक में एन एक हारिस, सी एम इब्राहिम, जमीर अहमद खान , रिजवान अरशद, सलीम अहमद समेत कई अन्य नेता शामिल हुए। बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा, उन्होंने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी और इस प्रयास में अपने पूर्ण सहयोग का भरोसा भी दिया। और मुख्यमंत्री मुस्लिम समुदाय को दोषी ठहराने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।

बता दें मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने टीवी 9 को दिए एक विशेष साक्षात्कार में कहा, किसी को भी मुसलमानों के खिलाफ एक शब्द नहीं बोलना चाहिए। यह एक चेतावनी है। अगर कोई किसी अलग घटना के लिए पूरे मुस्लिम समुदाय को दोषी ठहराता है, तो मैं उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करूंगा।

येदियुरप्पा ने प्रदेश के मुस्लिम नेताओं और विधायकों के साथ एक बैठक कहा कि विधायक जमात के कार्यक्रम में शामिल होने वालों का विवरण देने और उन्हें कोविड-19 की जांच के लिये मनाने के साथ ही एक तय अवधि के लिये खुद को पृथक रखने के लिये तैयार करने पर भी सहमत हैं।

 

उन्होंने बताया कि उन्होंने समुदाय के धार्मिक नेताओं के साथ बैठक की और इस बारे में जागरुकता फैलाई। वही नेताओं ने माना कि रोकथाम ही इस बीमारी पर नियंत्रण का एक मात्र उपाय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे समुदाय के लोगों से अपील करेंगे और उन्हें समझाएंगे कि वे स्वास्थ्य कर्मियों का सहयोग करें।