VIDEO: योगी आदित्यनाथ के बिगड़े बोल सुप्रीम कोर्ट को ही दे डाली धमकी

देश में जब भी कोई बड़ा चुनाव नजदीक आता है कुछ राजनीतिक पार्टियां कई विवादित मुद्दों को उठाना शुरू कर देती है. देश के सबसे बड़े विवादित मुद्दों में से एक अयोध्या राम जन्मभूमि को एक बार फिर से उठाना शुरू कर दिया गया है. बीजेपी हर चुनाव से पिछले इस मुद्दे को गर्म करके वोटों को अपनी और खींचती रही है. बीजेपी ने इस मुद्दे को लेकर अब तक सिर्फ बयानबाजी ही की है. वहीं लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर से बीजेपी ने राम मंदिर मुद्दे को हवा देना शुरू कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम मंदिर पर सुनवाई के लिए नई संविधान पीठ का गठन किया गया है.

इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री में हैरान कर देने वाला बयान दिया है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले पर सुनवाई के लिए पांच सदस्यीय नई पीठ का गठन किया है.

इस बेंच में दो नए जजों को सम्मिलित किया गया है. नई पीठ में न्यायमूर्ति भूषण और न्यायमूर्ति नजीर नए सदस्य हैं. इसी बीच यूपी सीएम योगी आदित्यानाथ ने राम मंदिर मुद्दे पर बड़ा दावा करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट को यह मामले हमें सौंप देना चाहिए.

सीएम योगी ने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर जल्द फैसला सुनवाई करने में असमर्थ है तो कोर्ट को यह मामला हमें सौंप देना चाहिए हम इस मामले को 24 घंटे के अंदर सुलझा लेगें.

जब उनके पूछा गया कि आप इसका समाधान कैसे करेंगे बातचीत से या फिर डंडे से तो इस पर योगी ने मुस्कारते हुए कहा कि पहले अदालत को मसला हमारे हवाले तो करने दीजिए. सीएम ने कहा कि मैं अब भी कोर्ट से इस मामले को जल्द से जल्द निपटाने की अपील करूंगा.

‘आप की अदालत’ में योगी आदित्यनाथ: ‘राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट फैसला नहीं कर सकता तो हमें सौंप दे, 24 घंटे में विवाद निपटा देंगे’

सीएम योगी ने कहा कि 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाई कोर्ट की खंडपीठ ने भूमि बंटवारे पर न सिर्फ आदेश नहीं दिया था बल्कि यह भी मना था कि बाबरी ढांचा हिंदू मंदिर या स्मारक को नष्ट करके बनाया गया था. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने कोर्ट के आदेश पर खुदाई की और स्वीकार किया कि इसे हिंदू मंदिर या स्मारक को नष्ट करके बनाया गया था.